0 1 min 5 mths

ओडगी संवाददाता – लव दुबे

ओडगी:– जनपद पंचायत ओड़गी के ग्राम पंचायत मसनकी का एक मामला सामने आया है जहा भ्रष्टाचार में सम्मिलित सचिव का भांडा फोड़ किया गया है, जिसमें दोषी पाए जाने पर निलंबित कर दिया गया है।

ज्ञात हो की ओड़गी में 74 ग्राम पंचायत आते हैं वही बड़ा पंचायतों में से 1 मसनकी भी है बात करे यहां की जनसंख्या की तो हजार के ऊपर यहां लोग निवास करते हैं जिसमे ज्यादातर आदिवासी समाज के लोग रहते हैं जिसके उत्थान के लिए सरकार तमाम तरह के योजनाओं से गांव को सुशोभित कर ग्रामीणों को रोजगार देने का कार्य कर रही हैं लेकिन यहां उपस्थिति कर्मचारी बिल्कुल ही सरकार के इस कार्य को विपरीत करते दिखाई दे रहे हैं इनका मनसा यह बना हुआ है कि गांव के लोगों तक रोजगार ना पहुंचे और पूरा पैसा कागजों में ही आहरण कर ले, जिसका बेखूबी इनका साथ निभातें हैं अधिकारी क्योंकि बिना साठ गांठ के कोई भी कर्मचारी भ्रष्टाचारी कैसे कर सकता हैं अधिकारियों का हाथ इनके ऊपर इतना बना हुआ है कि ग्रामीण क्षेत्रों से जब लोग इनकी शिकायत दर्ज कराने जाते है तो उसको अधिकारी अनदेखा कर देते हैं और ये भूल जाते हैं कि इनको सरकार के द्वारा वेतन दिया जाता है बावजूद इसके मानो गरिबों के घुस से ही इनका लग्जरी कार का मेंटनेश करते हैं जिस वजह से गरीबों का हक मारने पर भी नहीं कतराते है नतीजा यह होता है कि गांव के गरीब गरीबी जीवन यापन करने पर विवश हैं।

पंचायत सचिव आलम साय के द्वारा ग्राम पंचायत में संचालित निर्माण कार्यों जैसे की एस.आर.एल.एम., शेड निर्माण, डेप निर्माण, व्यक्तिगत शौचालय निर्माण, सोख्ता गड्ढा आदि निर्माण कार्यों में इनके द्वारा खुल कर भ्रष्टाचारी किया गया है जिसका अनुमानित लागत राशि करोड़ों रुपए से ज्यादा ग्रामीणों के द्वारा बताया जा रहा है इनके ऊपर पता नहीं किसका हाथ हैं जो जनपद पंचायत में आयोजित समीक्षा बैठकों में भी लगातार अनुपस्थिति रहते हैं जिसके लिए उसको कारण बताओ सूचना पत्र जारी किया गया।

विगत 21 दिसंबर 2023 को मुख्यकार्यपालन अधिकारी, जिला पंचायत सूरजपुर की अध्यक्षता में समीक्षा बैठक का आयोजन जनपद पंचायत ओड़गी के सभाकक्ष में किया गया। जिसमें पंचायत सचिव आलम साय पुनः अनुपस्थित पाये गये। पंचायत सचिव के लगातार अनुपस्थित रहने तथा कारण बताओ सूचना पत्र का जवाब प्रस्तुत नहीं करने के फलस्वरूप पंचायत सचिव का उपरोक्त कृत्य छ.ग. पंचायत सेवा (आचरण) नियम, 1998 के नियम-03 तथा छत्तीसगढ़ ग्राम पंचायत (सचिव की शक्तियां तथा कृत्य) नियम, 1999 के नियम 3,4 एवं 6 के विपरीत है।

फलस्वरूप आलम साय, पंचायत सचिव, ग्राम पंचायत मसनकी, जनपद पंचायत ओड़गी को छ.ग. पंचायत सेवा (अनुशासन तथा अपील) नियम 1999 के नियम 4 के तहत् तत्काल प्रभाव से निलंबित करते हुए पदस्थापना कार्यालय जनपद पंचायत ओड़गी संलग्न किया गया है ।

युवाओं ने किया सचिव की मांग

युवाओं का कहना यह है कि जिस प्रकार से हमारे गांव का आलम साय के द्वारा सर्वनाश कर दिया गया है इसके कारनामे गिनने योग्य नहीं है अगर यूं कहें कि भ्रष्टाचार की सीमा को हद से ज्यादा लांघ चुके हैं यह बात कहना लाजमी होगी जहां एक और इतने सारे योजनाओं का लाभ गांव गरीब युवाओं को मिले इससे अच्छा अवसर क्या हो सकता है लेकिन कर्मचारी अधिकारी के साठ गांठ से इस प्रकार का कृत्य करते हैं यह बहुत ही निंदनीय बात है आज ग्राम पंचायत मसनकी के युवाओं के द्वारा जनपद सीईओ मैडम को लिखित आवेदन देकर नए सचिव का मांग किया गया जिसपर सीईओ ने युवाओं के आवेदन पत्र पर मुहर लगा आश्वासन भी दी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *