जादू टोना के शक में की 60 वर्षीय महिला की हत्या ; सुनियोजित तरीके से पहले कोटवार ने मृत महिला को बुलवाकर दिया घटना को अंजाम

जीपीएम संवाददाता – तापश शर्मा

गौरेला:

19 जून की रात लगभग 9 बजे गौरेला थाने को सूचना मिली थी कि जिले के सुदूर अंचल के ग्राम भस्कुरा और कोदोरास के मध्य पुलिया के समीप एक अज्ञात महिला का शव पड़ा है जिस पर जिले की एसपी आईपीएस भावना गुप्ता के निर्देश पर तत्काल एएसपी ओम चंदेल और एसडीओपी गौरेला श्याम सिदार के नेतृत्व में एक टीम डॉग स्क्वायड के साथ घटनास्थल पहुंची और आस पास के ग्रामीणों की मदद से मृत महिला की शिनाख्तगी मुन्नीबाई मरावी उम्र लगभग 60 वर्ष ग्राम भस्कुरा के रूप में की गई जिसके बाद प्रारंभिक पंचनामा और पीएम कार्यवाही तथा घटनास्थल निरीक्षण फोरेंसिक वैज्ञानिक प्रवीण सोनी के पर्यवेक्षण में करवाया गया साथ ही साइबर सेल को भी डिटेक्शन में लगाया गया।

घटनास्थल से मिले साक्ष्य के आधार पर साइबर सेल प्रभारी उप निरीक्षक सुरेश ध्रुव की टीम ने जब टेक्निकल एनालिसिस किया तो कोटवार की भूमिका संदिग्ध परिलक्षित हुई, गांव में जब और पूछताछ की गई तो घटना के कुछ दिन पूर्व मृत महिला का गांव के ही चिकनीटोला निवासी कृष्णा उर्फ बब्बू मरावी से विवाद की बात पता चली और जब बब्बू की मां कंवरिया बाई के कोटवार विरासू लाल पड़वार से संबंधों का पता चला तो सारी कड़ियां जुड़ती नजर आई जिस आधार पर कोटवार विरासुलाल को हिरासत में लेकर हिकमत अमली से पूछे जाने पर अपना जुर्म कबूलते हुए घटना का वृतांत बताया। इसके बाद महिला आरोपी कंवरिया बाई मरावी को उसके निवास से गिरफ्तार किया गया। कृष्णा उर्फ बब्बू मरावी कोटवार के हिरासत में लेते ही फरार हो गया था जिसे साइबर सेल की टीम ने ग्राम करंजी के जंगलों से धर पकड़ कर हिरासत में लिया।
आरोपी बब्बू ने स्वयं अपने और अपनी मां पर मृतिका मुन्नीबाई द्वारा जादू टोना (स्थानीय बोली में पांगती) करने के शक में यह घटना किया जाना बताया है।

कोटवार विरासुलाल चूंकि मृतिका मुन्नीबाई का विश्वास पात्र था और अक्सर मेडुका उसके वन अधिकार पट्टा के काम से उसे ले जाया करता था इसलिए उसने घटना के दिन दोपहर 1 बजे से महिला को वन अधिकार पट्टा में नंबर सुधरवाने के बहाने बुला रहा था । आरोपी कृष्णा उर्फ बब्बू मरावी पहले से मृतिका के घर के पास ताक लगाकर बैठा था। मुन्नीबाई शाम करीब 4 बजे जब अपने घर से पैदल कोटवार से मिलने निकली आरोपी कृष्णा फरसा लेकर उसके पीछे निकल गया। आरोपी की मां कांवरिया बाई ने ही छठी कार्यक्रम से महिला के निकलने की बात कोटवार को फोन करके बताई थी

जिसके बाद मौका पाकर आरोपी कृष्णा उर्फ बब्बू ने कोदोरास के पास कच्चे मार्ग पर मुन्नीबाई को अकेला पाकर फरसा से ताबड़तोड़ हमले कर उसे मार डाला और जंगल के रास्ते भाग निकला। निरीक्षक धर्मानंद शुक्ला और उप निरीक्षक संत म्हात्रे की टीम द्वारा आरोपियों का विधिवत मेमोरेंडम बयान दर्ज कर उनके निशानदेही पर घटना में प्रयुक्त हथियार फरसा समेत समस्त भौतिक साक्ष्य और साइबर साक्ष्यों की बरामदगी की है । मामले में हत्या और आपराधिक षडयंत्र का अपराध दर्ज कर सभी तीनों आरोपियों को विधिवत गिरफ्तार कर न्यायिक रिमांड पर भेजा जा रहा है।

महज 48 घंटे में मामले का विस्तृत खुलासा करने में और आरोपियों की धरपकड़ में गौरेला के निरीक्षक धर्मानंद शुक्ला, उप निरीक्षक सनत मात्रे साइबर सेल जीपीएम के उप निरीक्षक सुरेश ध्रुव, प्रधान आरक्षक रवि त्रिपाठी, प्रधान आरक्षक चौपाल कश्यप , आरक्षक सुरेंद्र विश्वकर्मा , आरक्षक राजेश शर्मा, आरक्षक महेन्द्र परस्ते की उल्लेखनीय भूमिका रही।

गिरफ्तार आरोपियों के नाम

1. कृष्णा उर्फ बब्बू मरावी उम्र 19 वर्ष ग्राम चिकनीटोला भस्कुरा
2. कंवरिया बाई मरावी उम्र 40 वर्ष ग्राम चिकनीटोला भस्कुरा
3. कोटवार विरासुलाल पडनवार उम्र 43 वर्ष ग्राम गुम्मा भस्कुरा

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *