हमारी पूर्व की सेवा को मानकर जब संविलियन किए तो पेंशन क्यों नहीं ? वित्त विभाग के आदेश से भड़के गुरुजी

न्यूज 36 गढ़ संवाददाता – कृष्णा दास

मुंगेली न्यूज 36 गढ़ :– सहायक शिक्षक/समग्र शिक्षक फेडरेशन के ज़िलाध्यक्ष भूपेंद्र बंजारे,कार्य ज़िला अध्यक्ष मनोज कश्यप, ज़िला सचिव मनोज अंचल ने संयुक्त रूप से बताया कि छग शासन के वित्त विभाग द्वारा जारी आदेश के अनुसार संविलियन प्राप्त एल बी शिक्षकों को पुरानी पेंशन व समस्त हितलाभ संविलियन वर्ष से दिए जाने की बात कही है, साथ ही सेवानिवृत्ति के समय, संविलियन वर्ष से पुरानी पेंशन लागू तिथि तक के शासकीय अंशदान ब्याज़ जमा करने पर ही उनको पेंशन अधिकार पत्र दिया जाएगा ऐसा उल्लेख इस पत्र में किया गया है जिससे समस्त संविलियन प्राप्त शिक्षकों में गहरा आक्रोश है,संविलियन वर्ष से पुरानी पेंशन का लाभ देने वाली आदेश से पूरे प्रदेश भर के 2लाख शिक्षक समुदाय आक्रोशित एवम् भयभीत हैं

क्योंकि इस आदेश से समस्त संविलियन प्राप्त शिक्षकों की वर्षों की सेवा शून्य हो जा रही है, शिक्षक मनोज कश्यप ने बताया कि 1अप्रैल 2012 से पेंशन के योग्य मानकर हमारी पेंशन की कटौती भी की जा रही थी, उसे भी धता बता 2018 से पुरानी पेंशन की लाभ देने की बात कही गई है। जो कि प्रदेश के 2 लाख संविलियन प्राप्त शिक्षकों के साथ घोर अन्याय है।
हम सभी शिक्षक समुदाय ठगा महसूस कर रहे हैं। ये सरकार हमे कहीं का नही छोड़ रहे हैं।हमारी शासन से मांग है कि आपके सरकार ने ही हमारी पूर्व की सेवा की गणना कर संविलियन की सौगात हमें दिया था तो पुरानी पेंशन के लिए भी हमारी उसी पूर्व सेवा की गणना करके समस्त हित लाभ प्रदान कर समस्त शिक्षकों का दिल जीत कर राहत दे सकते है। आशा ही नहीं बल्कि पूरी उम्मीद है कि प्रदेश के यशस्वी मुख्यमंत्री विष्णु देव साय जी और छत्तीसगढ शासन के ऊर्जावान वित्त मंत्री श्री ओ पी चौधरी जी अति संवेदनशील हैं वे हमारी वेदना,पीड़ा को भलीभांति समझकर दो लाख शिक्षक संवर्ग के लिए असरदार नीति बनाएंगे जो एल बी संवर्ग के लिए हितकर होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *