सड़क में गड्ढा या गड्ढे में सड़क

संवाददाता,,,, युसूफ खान

हिंडालको कंपनी की बड़ी-बड़ी वाहन चलने से सामरी से सबागp,m,js,y ki रोड हुआ खस्ता हाल ग्रामीणों का परेशानी सुनने को कोई तैयार नहीं संबंधित अधिकारी मौन,,इसका जिम्मेदार कौन।

दरअसल आपको बता दे की हिंडालको इंडस्ट्रीज प्राइवेट लिमिटेड सामरी

जीएनसी कंस्ट्रक्शन की वाहन चलने से प्रधानमंत्री ग्रामीण योजना सड़क का हाल बहुत ही खस्ता हो चुका है वही लोगों का कहना है कि कई बार हमने जीएनसी कंस्ट्रक्शन हिंडालको प्राइवेट लिमिटेड अधिकारियों से बात करना चाहा और हमारे द्वारा उनको कई बार अवगत कराया गया लेकिन उनके द्वारा कभी भी ग्रामीणों को संतुष्टि पूर्वक कोई भी जवाब नहीं दिया गया अब मौसम बरसात भी आ गई है जहां नाली की कोई उचित व्यवस्था नहीं है साथ में वाहन भारी स्पीड से चलते हैं जिससे बड़े,,और छोटे बच्चों को आंगन में निकलने में बहुत दिक्कत होता है साथ ही आने जाने वाले राहगीरों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है वहीं दूसरी तरफ अगर हम देखे तो हिंडालको प्राइवेट लिमिटेड बड़ी-बड़ी वादे करती है लेकिन खरे नहीं उतरते
आपको बताना चाहेंगे कि सन 1996 में हिंडाल्को प्राइवेट लिमिटेड द्वारा एग्रीमेंट किया गया था एग्रीमेंट में कहा गया था कि जहां भी नया पीठ खुलेगा वहां हम आदर्श ग्राम बनाएंगे आदर्श ग्राम के अंतर्गत आने वाली सुविधा जैसे सड़क पुलिया व शिक्षा और स्वास्थ्य जैसी सुविधा होगी

साथ में एग्रीमेंट में यह भी कहा गया था मशीन से कम से कम और स्थानीय मजदूरों को ज्यादा प्राथमिकता दिया जाएगा लेकिन ना यहां सड़क बनाया यह कहीं ना कहीं आम मजदूरों के साथ और ग्राम वासियों के साथ हिंडालको प्राइवेट लिमिटेड कंपनी छ ल करती हुई दिखाई दे रही है नौकरी के नाम पर आज तक बेरोजगारी झेल रहे है

क्या कहते हैं ग्रामीण

ग्रामीणों का कहना है कि हिंडाल्को इंडस्ट्रीज प्राइवेट लिमिटेड का ऑफिस कुसमी में है जब हम वहां पर अपनी किसी भी समस्या को लेकर जाते हैं तो वहां के उनसे संबंधित कोई भी अधिकारी हमें दरवाजे के अंदर भी नहीं आने देते अतः स्थिति यहां तक आ जाती है की भगवान तो मिल जाते हैं लेकिन हिंडाल्को इंडस्ट्रीज प्राइवेट लिमिटेड के कोई भी मुंशी मेट या आला अधिकारी से मुलाकात नहीं होता उनसे मुलाकात करना भगवान को स्वर्ग में ढूंढने जैसा है

हिंडाल्को के अधिकारियों से मोबाइल के माध्यम से संपर्क संपर्क किया लेकिन फोन नहीं उठाया गया वहीं हिंडाल्को के माइंस मैनेजर अमित तिवारी जी से भी हमने संपर्क करना चाहा वह हमारे संवाददाता का नंबर ब्लैक लिस्ट में डाल कर रखे हैं और हिंडाल्को के द्वारा यह भी कहा जाता है की हिंडाल्को के बारे में कोई वर्जन लेना है तो आप लोहरदगा या रांची जाइए

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *