चेक डेम के नाम पर किया जा रहा है करोड़ों का घोटाला

युसूफ खान/बलरामपुर –

ग्राम पंचायत शंकरगढ़ के डूमर पानी व लोधी पंचायत वह अन्य बहुत सारे पंचायत में चेक डैम का निर्माण कार्य में हो रहा है घटिया सामग्री का इस्तेमाल

दरअसल आपको बता दें कि जनपद पंचायत शंकरगढ़ के ग्राम पंचायत डूमर पानी में चेक डैम का निर्माण कार्य बहुत ही घटिया किया जा रहा है वहीं अगर सामग्री की बात करें तो घटिया स्तर बालू घटिया स्तर का सीमेंट का इस्तेमाल किया जा रहा है हम बताना चाहेंगे आपको चेक डैम निर्माण कार्य में जिस जगह इंजीनियर अभिषेक के द्वारा जिओ टेक किया गया था लेकिन जिओ टेक कहीं और किया गया और निर्माण कार्य कहीं और किया गया जिससे यह साफ दिखाई देता है की इंजीनियर के साट घाट से ठेकेदार के हौसले हैं बुलंद घटिया निर्माण कार्य कर के कर रहे हैं शासन के पैसे का बंदर बाट 31 लाख रुपए की लागत से बनने वाली चेक डैम का निर्माण कार्य एक से डेढ़ फीट के फाउंडेशन बना कर घटिया कार्य संपूर्ण कर दिया गया वही इंजीनियर अविनाश भारती के द्वारा हरी झंडी दिखा दी गई वही बेलकोना के सचिव असलम अली बने resविभाग के ठेकेदार उनके द्वारा कार्य संपूर्ण कराया गया कार्य के पश्चात गांव वालों ने जब इसकी शिकायत सरपंच से की तो उनका कहना था कि गांव के लोगों ने मुझे बताया है कि हमारे गांव का चेक डैम का घटिया निर्माण कार्य हो रहा है.

क्या कहते हैं ग्रामीण

साथी ग्रामीणों का यह भी कहना है कि फर्जी मास्टर रोल भरकर एक ही घर के नौ लोगों का जिसमें स्कूल पढ़ने वाले बच्चों का भी फर्जी रूप से मास्टर रोल भर दिया गया स्थानीय लोगों को रोजगार नहीं दिया गया आउटसोर्सिंग लगाकर बाहर के लोगों से कार्य कराया गया

क्या कहते हैं ग्रामीण धनशाय मुंगी

ग्रामीण धनशाय मुंगी का कहना है कि 2 वर्षों में 280 दिन का फर्जी हाजिरी भर कर मुझसे निकलवाई गई राशि लेकिन नवाज जो मुंशी है उसके द्वारा ठेपा लगवाकर मेरा पैसा निकाला गया पैसा निकालने के बाद मुझे दो ₹2000 का राशि तकरीबन तीन बार दी गई और ग्रामीणों के द्वारा यह भी आरोप लगाया गया ग्राम पंचायत बेलकोना के सचिव असलम के कार्य से हम संतुष्ट नहीं है और एक ग्रामीण महिला का यह भी कहना है कि मेरे नाम से जो रोजगार गारंटी के तहत जो चेक डैम का निर्माण हो रहा है उसमें मुझे बिना बताए मेरे नाम से हाजिरी बनाया गया और मुझे पता भी नहीं है

चेक डैम का निर्माण क्यों किया जाता है

“चेक डैम” जल संचयन के उद्देश्य से उथली नदियों और नालों पर पानी के प्रवाह की दिशा में बनाए गए छोटे अवरोध हैं। छोटे बांध संरचना के पीछे एक छोटे से जलग्रहण क्षेत्र में मानसून की बारिश के दौरान अतिरिक्त जल प्रवाह को रोकते हैं। जलग्रहण क्षेत्र में बनाया गया दबाव जमा पानी को जमीन में धकेलने में मदद करता है।

आर्यस विभाग के ई क्या कहते हैं,,,,,,,

से जब हमने बात की तो उनका कहना था ये जांच का विषय है
हम इसकी जांच करते हैं

लेकिन ठेकेदार के द्वारा गुणवत्ता विहीन कार्य संपूर्ण करा दिया गया आर्यस विभाग के कर्मचारियों अधिकारियों के द्वारा कोई मॉनिटरिंग नहीं की गई जिस ठेकेदार के हौसले हैं बुलंद

पूर्व में भी हमने खबर प्रकाशित किया था जिसके बाद अभी तक अधिकारी और कर्मचारियों के कान में जू तक नहीं रेंगा आखिर जिम्मेदार है कौन जनता पूछती सवाल

आखिर आजादी के 75 वर्ष के बाद भी सुदूर अंचल आदिवासी बहुमूल्य क्षेत्र में आदिवासियों के साथ किया जा रहा है छल हम आपको यह भी बताना चाहेंगे कि राज्य सरकार और केंद्र सरकार हजारों करोड़ों रुपए लगाकर इस तरह की योजना निकालती है और अवसर लाती है जिससे ग्राम के ग्राम वासियों को और बहुमूल्य पिछड़े हुए आदिवासियों को जिस से रोजगार मिल सके लेकिन असलम सचिव के द्वारा आर्यस के इंजीनियर के साथ अच्छा साट घाट बनाकर कर रहे हैं शासन के पैसों का बंदर बाँट

क्या कहते हैं बेलकोना के असलम सचिव

जब असलम सचिव से हमने बात करना चाहा तो उनके द्वारा कहा गया कि हमें वर्जन देने का अधिकार नहीं है

असलम बेलकोना डूमरपानी के सचिव हैं तो उनके अधिकारियों से साठ घाट बना रहता है इसका फायदा उठाकर आर्यस विभाग के ठेकेदार बन गए और उनके द्वारा करा दिया पांच चेक डैम का निर्माण वही एक चेक डेम की दुरी की बात करें तो 700 से 800 मीटर की दुरी मे निर्माण कार्य होना था तो दूसरी तरफ असलम ठेकेदार के दोवारा 200 से 300 मीटर की दुरी के बिच कर दिया गया निर्माण कार्य। एस्टीमेट की बात करें तो उसके हिसाब से 700 से 800 मीटर की दूरी मे एक चेक डैम बनाया जाता है
वहीं दूसरी तरफ असलम सचिव के द्वारा 200 से 300 सौ मीटर की दुरी मे बना दिया गया अब देखने वाली बात होगी कि इससे कितना फायदा मिल सकेगा उन किसानों को जो हमारे देश के अन्नदाता है कुछ किसानों का यह भी कहना है कि जिस तरह से चेक डैम का निर्माण कराया गया है इस बारिश में पानी के साथ चेक डेम बहने की आशंका बनी हुई है,,,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *