0 1 min 4 mths

राजनांदगांव

बीते मंगलवार को जिला कार्यालय राजनांदगांव में कलेक्‍टर संजय अग्रवाल की अध्‍यक्षता में हुई जल जीवन समिति की समीक्षा बैठक में भाजपा नेता बिसेसर साहू शामिल हुए। उन्‍होंने इस बैठक के संदर्भ में बताया कि – जल जीवन मिशन अंतर्गत अविभाजित राजनांदगांव जिला के 1695 गांवों में काम चल रहा है। भारत सरकार की इस योजना को लेकर मंशा है कि हर गांव, मोहल्‍ले तक घर-घर नल से शुद्ध पेयजल पहुंचे। आजादी के 74 साल में इससे पहले इतनी बड़ी योजना कभी मैदानी स्‍तर पर लागू नहीं की गई थी। यह भारत का भविष्‍य बदलने वाली योजना है।

भाजपा नेता बिसेसर साहू ने बताया कि – भारत सरकार ने 2018 से 2024 तक भारत के सभी गांवों के घर-घर में पीने का पानी पहुंचाने के लिए बजट की व्‍यवस्‍था की है। जल जीवन मिशन समिति की बैठक में इसकी ही समीक्षा हुई। अविभाजित राजनांदगांव के अधिकतर गांवों में काम हो चुके, कुछ चल रहे हैं और कुछ स्‍वीकृति में हैं। इसके अलावा कुछ स्‍थानों के लिए टेंडर की प्रक्रिया चल रही है। मिशन के तहत गुणवत्‍ता पूर्ण कार्य हो और हर घर में पानी पहुंचे इस उद्देश्‍य को लेकर कार्यनीति बनाई जा रही है। आगे गर्मी आने वाली है इसके लिए भी समिति के सभी सदस्‍यों ने अपनी बात रखी है। सभी विभागों के अधिकारियों ने मिलकर जनप्रतिनिधियों ने मिलकर इस पर चर्चा की।

जल जीवन मिशन को लेकर उन्‍होंने बताया कि गांव दर गांव में कार्य की प्रगति और गति की समीक्षा समय समय पर की जाती रही है। यह इस सत्र की आखिरी बैठक थी। इस योजना में फंड का किसी तरह‍ का अभाव नहीं है। पीएम नरेंद्र मोदी के नेतृत्‍व वाली केंद्र सरकार ने पर्याप्‍त से अधिक फंड इसके लिए भेजा है। कई स्‍थानों पर जहां काम चल रहा है वहां स्‍वीकृत राशि के काम पड़ने पर इस्‍टीमेट के आधार पर अतिरिक्‍त राशि भी उपलब्‍ध करवाई जा रही है। इस योजना के तहत तय है कि, जहां से पेयजल की व्‍यवस्‍था हो वहां से इसे घर-घर तक पहुंचाने का कार्य किया जाए।

जल जीवन मिशन को लेकर भाजपा नेता साहू ने कहा कि – आजादी के 74 साल तक पेयजल के लिए चिंता नहीं की गई थी। लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की दूरदृष्टि का प्रभाव है कि जल जीवन मिशन जैसी योजना चल रही है। विगत आठ साल से हिंदुस्‍तान के हर कोने में यह काम चल रहा है। पेयजल के लिए सरकार गंभीर है। पीएम का लक्ष्‍य है कि हर घर में माताओं – बहनों को किसी प्रकार की तकलीफ न हो। उन्‍हें झरिया से, नदी से, कुंआ से, बोर से पानी लादकर न लाना पड़े। जल जीवन मिशन भारत में पेयजल की क्रांति साबित हो रही है।

राजनांदगांव संवाददाता – संजय सोनी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *