0 1 min 4 mths

दीपक कश्यप/पेण्ड्रा –

जिला गौरेला पेण्ड्रा मरवाही के चतुर्थ स्थापना दिवस पर आयोजित अरपा महोत्सव कार्यक्रम में पधारे मुख्य अतिथि पर्यटन संस्कृति एवं शिक्षा मंत्री बृजमोहन अग्रवाल जी एवं कार्यक्रम अध्यक्ष स्वास्थ्य मंत्री तथा जिले के प्रभारी मंत्री श्याम बिहारी जायसवाल जी तथा अन्य विशिष्ट अतिथियों सहित जिले की कलेक्टर श्रीमती प्रियंका ऋषि महोबिया द्वारा जिला प्रशासन की ओर से प्रकाशित कॉफी टेबल बुक, टेबल कैलेण्डर सहित आनंद फाउंडेशन द्वारा जिला गौरेला पेण्ड्रा मरवाही से प्रकाशित की जाने वाली वार्षिक पत्रिका हिन्दीवाहिनी का विमोचन किया गया। हिन्दीवाहिनी पत्रिका के संपादक युवा साहित्यकार एवं छग राजभाषा आयोग के जिला समन्वयक आशुतोष आनंद दुबे ने बताया कि हिन्दीवाहिनी पत्रिका साहित्य, संस्कृति तथा जिले की विशेषताओं को प्रमुखता से जनव्यापी बनाने तथा साहित्य एवं संस्कृति के संवर्धन तथा प्रचार-प्रसार के उद्देश्य से इसका प्रकाशन किया जा रहा है।

पत्रिका का प्रथम अंक हिन्दी विशेषांक था तो वहीं यह द्वितीय अंक प्रकृति-पर्यावरण एवं पर्यटन विशेषांक के तौर पर तैयार किया गया है। इस अंक में प्रकृति, पर्यावरण के प्रति सुधारात्मक दृष्टिकोण, जलवायु परिवर्तन के प्रति गहरी चेतना एवं विमर्श तथा साथ ही जिले के विशिष्ट पर्यटन स्थलों का दृष्टांकन किया गया है। पत्रिका में गीत, कविताएँ, आलेख, लघुकथाएँ, शोधपत्र, साक्षात्कार आदि के साथ ही जिले के कुछ प्रमुख पर्यटन स्थलों की तस्वीरें तथा जानकारी साझा की गई है। इस दौरान पत्रिका के संपादक आशुतोष आनंद दुबे ने कैबिनेट मंत्री बृजमोहन अग्रवाल जी एवं श्याम बिहारी जायसवाल जी को स्वरचित जिला गीत की कृति भेंट कर उनका सम्मान किया।

आशुतोष ने पत्रिका के संपादन में सहयोगी रहे संपादक मंडल के सदस्य अमन सिंह, बालमुकुंद श्रीवास, त्रिवेंद्रधर बड़गैया, श्रेयस सारीवान सहित प्रकाशन में सहयोगी रहे साथियों का तथा इस विशेष अवसर पर विमोचन संपन्न कराने जिलाधीश श्रीमती प्रियंका ऋषि महोबिया, जिला पर्यटन नोडल अधिकारी डॉ राहुल गौतम, ललित शुक्ला सहित सभी शुभचिंतकों का हृदय से आभार व्यक्त किया है। विमोचन कार्यक्रम में जिले के समस्त अधिकारी, कर्मचारीगण, स्थानीय जनप्रतिनिधि, गणमान्य नागरिकगण, प्रिंट एवं इलेक्ट्रानिक मीडिया के समस्त पत्रकारगण तथा बड़ी संख्या में जिलेवासियों की गरिमामयी उपस्थिति रही।

इसी के साथ ही पत्रिका की संपादकीय टीम अगले अंक के विषय तथा संकलन को लेकर तैयारियों में जुट गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *