0 1 min 4 mths

अजय गौतम/अंबिकापुर –

आज मेडिकल कॉलेज अम्बिकापुर में स्वास्थ्य सुविधा को बेहतर करने तथा आपात परिस्थिति में दूरस्थ क्षेत्रों से मरीजों से सैंपल व मेडिकल कालेज से जांच रिपोर्ट को भेजने के लिए आज मेडिकल कालेज परिसर से 40 किलोमीटर दूर उदयपुर ड्रोन की सहायता से सैंपल व रिपोर्ट को भेजा व मंगाया गया।

केन्द्र सरकार द्वारा दूरस्थ क्षेत्रों में स्वास्थ्य सुविधाओं को बेहतर करने के लिए ड्रोन का उपयोग करने के लिए शुरू की जा रही योजना के तहत इसका परीक्षण अम्बिकापुर मेडिकल कालेज तथा यहां से 40 किलोमीटर दूर स्थित उदयपुर अस्पताल के बीच किया गया। जिसमें सारी तैयारियों के बीच दोपहर 12.26 बजे मेडिकल कालेज से तीन सैंपल किट लेकर ड्रोन ने उड़ान भरी और महज 20 मिनट में उदयपुर स्थित झिरमिटी स्टेडियम ग्राउंड मंे पहुंचा। वहां से पुनः सैंपल आदी लेकर 1.15 पर ड्रोन ने उड़ान भरी जो 20 मिनट में मेडिकल कालेज ग्राउंड में पहुंच गया।सड़क मार्ग से यह दूरी तय करने में कम से कम 1 घंटे का समय लगता है और अगर मार्ग में जाम आदी की समस्या हो तो फिर ऐसे में और अधिक देरी हो जाती है इसलिए मरीजों को बेहतर सुविधा जल्द से जल्द आपात स्थिति में उपलब्ध कराने के लिए यह प्रोजेक्ट चलाया जा रहा है।

इस ड्रोन का संचालन दो स्वयं सहायता समूहों द्वारा ड्रोन निर्माण वाली कंपनियों के सहयोग से किया जा रहा है। इस परिजयोजना को ड्रोन दीदी नाम दिया गया है ड्रोन के संचालन के लिए समूह की महिलाओं को दिल्ली में प्रशिक्षित भी किया गया है। इस सुविधा का उपयोग केवल आपात परिस्थिति में ही किया जाएगा क्योंकी इसकी संचालन की लागत प्रति किलोमीटर 150 रूपये है ऐसे में ड्रोन के आने-जाने के एक चक्कर में ही 6000 रूपये का व्यय होना तय है। आने वाले समय में और अधिक भार ले जाने में सक्षम ड्रोन का परीक्षण किया जाएगा। आज जिस ड्रोन का परीक्षण किया गया था वह 1 किलो भार ले जाने में सक्षम था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *