0 1 min 4 mths

किसानो का प्रदर्शन अभी जारी है, पंजाब और हरियाणा में किसानों के विरोध-प्रदर्शन का असर दिल्‍ली पर भी पड़ा है, किसानों के दिल्‍ली कूच के आह्वान को देखते हुए राष्‍ट्रीय राजधानी में कड़ी सुरक्षा बरती जा रही है। महत्‍वपूर्ण सीमाओं को सील कर दिया गया है, ताकि प्रदर्शनकारी किसान दिल्‍ली में प्रवेश न कर सकें, खासकर गाजीपुर बॉर्डर और सिंघू बॉर्डर पर विशेष निगरानी रखी जा रही है।

साथ ही ड्रोन की भी मदद से आस पास के सभी इलाकों पर नजर रखा जा रहा है, ताकि समय से पहले जानकारी मिल सके, बॉर्डर इलाकों में सख्‍ती के कारण प्रतिदिन आनेजाने वाले लोगों को कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है। लंबे ट्रैफिक जाम की वजह से परेशान होना पड़ रहा है, इन सबके बीच दिल्‍ली ट्रैफिक पुलिस ने एक और निति जारी की है।

दरअसल, दिल्ली पुलिस ने गुरुवार को किसानों के विरोध प्रदर्शन को देखते हुए एक यातायात परामर्श जारी किया जिसमें कहा गया कि नाकाबंदी और जांच के कारण शहर की सीमाओं पर वाहनों की आवाजाही प्रभावित होगी तथा यात्री इसे ध्यान में रखकर घर से निकलें।

एडवायजरी में कहा गया है कि झील खुर्द बॉर्डर, मंडी बॉर्डर, आया नगर बॉर्डर, डीएनडी फ्लाईवे, कालिंदी कुंज, बदरपुर, पल्ला, सूरजकुंड और कर्णी सिंह शूटिंग रेंज क्षेत्र में नाकाबंदी और जांच के कारण यातायात प्रभावित होगा, हरियाणा आने और जाने के लिए यातायात का मार्ग बदलकर जीरो पल्ला, सिंघू स्कूल टोल, पियाओ मनियारी, सबोली, साफियाबाद और लामपुर किया जा रहा है. हालांकि, इन सीमाओं पर पूरे दिन बड़ी मात्रा में यातायात रहता है। परामर्श में कहा गया है कि उचित जांच के बाद वाहनों को अनुमति दी जा रही है

दिल्ली पुलिस द्वारा परामर्श जारी

दिल्‍ली ट्रैफिक पुलिस की ओर से जारी की गई परामर्श में कहा गया कि सिंघू बॉर्डर से आगे एनएच-44 को आम यातायात के लिए पूरी तरह से बंद कर दिया गया है, परामर्श के अनुसार एनएच-44, सोनीपत/पानीपत की ओर जाने वाली अन्य संबद्ध सड़कें भी प्रभावित हैं, लेकिन आम जनता के लिए खुली हैं। परामर्श में कहा गया कि एनएच 8 पर गुरुग्राम की ओर से आने वाले यातायात के लिए इफको चौक और शंकर चौक से एमजी रोड जाने की सलाह दी जाती है।

चलो दिल्‍ली चले मार्च

ख़बरों के मुताबिक 13 फरवरी 2024 की सुबह पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश के किसानों ने हरियाणा-पंजाब सीमा और राष्ट्रीय राजधानी में प्रवेश बिंदुओं पर भारी बैरिकेडिंग के बीच अपनी मांगों पर जोर देने के लिए ‘दिल्ली चलो’ मार्च शुरू किया था, हालांकि उनमें से अधिकांश को हरियाणा के साथ पंजाब की सीमा पर शंभू और खनौरी बिंदुओं पर सुरक्षा कर्मियों द्वारा रोक दिया गया था तब से प्रदर्शनकारी दो सीमा बिंदुओं पर अब तक डटे हुए हैं।

 

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *