भवन विहीन विद्यालय बेचा में शिक्षा का अलख जगाते शिक्षक

कोंडागांव – ज्योति कुमार कमलासन

विषम परिस्थितियों में भी रोज स्कूल पहुंच, गढ़ रहे नौनिहाल बच्चों का भविष्य जिला व विकासखंड मुख्यालय कोण्डागांव से लगभग 65 किलोमीटर दूर संकुल केन्द्र कडेनार में प्राथमिक एवं माध्यमिक शाला बेचा स्थित हैं। जहाँ पूर्व में बने विद्यालय भवन अब अस्तित्व में नहीं हैं, परंतु झोपड़ी में भवन विहीन विद्यालय में शिक्षा के अलख जगाने हेतु 5 शिक्षक अपने कर्तव्यों का पालन करने में पीछे नहीं हट रहे है।

दुर्गम रास्तों एवं नदी नालों को पार कर पहुंचना पड़ता है स्कूल
प्राथमिक शाला में 31 एवं माध्यमिक शाला में 13 बच्चे है। शिक्षको एवं छात्र-छात्राओं को संस्था तक पहुँचने के लिए दुर्गम रास्तों एवं 3 नदियों को पार करना पड़ता हैं, बारिश के मौसम में यहां पहुंचना मुश्किल है। इतनी विषम परिस्थितियों के बाद भी शिक्षक-शिक्षिकाएँ अपने क्षमताओं के आधार पर यहा अध्ययनरत छात्र-छात्राओं को अध्यापन कार्य कर रहे हैं।

क्या कहते है परिजन

बच्चों के परिजनों का कहना है कि नक्सली दहशत की वजह से पहले उनके बच्चे स्कूल नहीं जाते थे, लेकिन शिक्षकों के अथक प्रयास से उनके बच्चे स्कूल जाकर मन लगाकर पढ़ाई कर रहे है, लेकिन झोपड़ीनुमा स्कूल में कक्षा लगने से बारिश के मौसम के साथ कभी भी हादसा होने का डर बना रहता है.

कार्य कुशलता के लिए शिक्षकों का मनोबल बढ़ाना जरूरी

शिक्षक-शिक्षिकाओं को पुरस्कार प्रदाय किया जाना कमतर नही होगा। विभाग को अपने ऐसे विद्यालयों के शिक्षक शिक्षिकाओं को पुरस्कृत कर मनोबल बढ़ाने की आवश्यकता है, ताकि कार्य कुशलता में गति मिल सके। विद्यालय यद्यपि भवन विहीन हैं, यह उन छात्र छात्राओं, शिक्षकों एवं ग्रामीणों के सफलता प्राप्ति के आत्मविश्वास को कम करता होगा, जिस पर प्रशासन को ध्यानाकर्षित करते हुए, सुगम मार्ग, विद्यालय भवन, स्वास्थ्य सुविधा, एवं अन्य आधारभुत सुविधा हेतु प्रयास किया जाना आवश्यक हैं।

शासन की योजनाओं से कोसो दूर पहुंच विहीन स्कूल

शिक्षा प्रणाली में सुधार लाने के लिए केंद्र से लेकर राज्य सरकार विभिन्न योजनाएं संचालित कर एड़ी चोटी का जोर लगा रही हैैं। इसके बावजूद अंदरूनी क्षेत्रों में सरकारी स्कूलों की स्थिति दयनीय बनी है। हालात यह है कि बुनियादी सुविधाएं तक स्कूलों से नदारद हैं। नौनिहाल बच्चों को पढ़ाई के लिए स्वच्छ वातावरण ही नहीं मिलेगा तो वह कैसे पढ़ाई कर सकते हैं?

स्कूल भवन के लिए प्रस्ताव भेजा गया है, जल्द ही यहां भवन निर्माण करवा लिया जाएगा

जिला शिक्षा अधिकारी मधुलिका तिवारी का कहना है की बेचा में संचालित हो रहे प्राथमिक एवं माध्यमिक शाला भवन विहिन है। यहां भवन हेतु प्रस्ताव बनाया गया है। इतनी विषम परिस्थितियों में भी शिक्षक अपना कर्तव्य निभा रहे है जो की सराहनीय है। जल्द ही यहां सर्व सुविधायुक्त स्कूल भवन का निर्माण करवा दिया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *