0 1 min 4 mths

सोशल मीडिया में एक गृहणी का CV यानि करिकुलम वीटा ट्रेंड कर रहा है l शादी के 13 साल बाद फिर से अपने करियर को शुरू करने का अरमान लिए इस महिला का CV काफी पसंद किया जा रहा है और चर्चा का विषय बना हुआ है l

अक्सर देखा जाता है की महिलाएं शादी, बच्चे और परिवार की जिम्मेदारियों के कारण अपने करियर से ब्रेक लेती है और जब फिर से करियर शुरू करना चाहती है तब तक एक लम्बा ब्रेक उनके सपनो के बीच आ जाता है l कॉर्पोरेट जगत जहाँ गला काट प्रतिस्पर्धा चलती है वहां ब्रेक के बाद पुराने अनुभवों के आधार पर बेहतर नौकरी मिलना किसी के लिए भी टेढ़ी खीर है तो महिलाओं के लिए और भी मुश्किल l

ऐसे में 13 साल का ब्रेक लेने वाली इस महिला के CV में ऐसा क्या ख़ास था जिसने सबका ध्यान आकर्षित किया !
महिला ने 13 साल के अपने ब्रेक को नकारात्मक दृष्टि से देखने की बजाय 13 साल के अपने फुल टाइम जॉब गृहणी होने को अपने सकारात्मक पक्ष के रूप में प्रस्तुत किया l

कंटेंट मार्केटिंग कंपनी ग्रोथिक के संस्थापक युगांश चोकरा ने इस CV को साझा किया कि कैसे उन्हें एक महिला से बायोडाटा मिला, जिसमें एक गृहिणी के रूप में 13 साल का अनुभव सूचीबद्ध था।

महिला अगस्त 2009 से एक गृहिणी रही है और उसने उस भूमिका में विभिन्न जिम्मेदारियों का उल्लेख किया। दैनिक दिनचर्या को समय पर पूरा करने से लेकर अपने दो बच्चों को उनके होमवर्क, प्रोजेक्ट, एक्स्ट्रा एक्टिविटीज के साथ-साथ पाठ्येतर गतिविधियों में मदद करने तक,  अपने बायोडाटा में सभी कार्यों को गर्व के साथ सूचीबद्ध किया।

 युगांश चोकरा ने लिंक्डइन पर गृहणी का बायोडाटा शेयर करते हुए लिखा –

“हमने यह सीवी देखा, एक गृहिणी के रूप में उनके पास 13 साल का अनुभव है। निश्चित रूप से, कुछ ऐसा जो उसे अलग दिखा सकता है। और मुझे यह पसंद है इसका कारण यह है कि परिवार का प्रबंधन करना एक वास्तविक कार्य है, कुछ ऐसा जिसे कम करके आंका नहीं जा सकता। भारत में 20% से भी कम महिलाएँ पेशेवर क्षमता में काम कर रही हैं। घरेलू कामकाज में भागीदारी में लिंग अंतर बच्चों वाले जोड़ों में सबसे बड़ा है। यह एक वास्तविक काम है, आप किसी को परिवार चलाने के लिए किए जाने वाले काम की मात्रा से वंचित नहीं कर सकते। इस प्रकार के सीवी पर विचार?” चोकरा ने  लिखा।

एक अन्य यूजर ने इस पर टिप्पणी की –

“घर का प्रबंधन करना वास्तव में एक पूर्णकालिक काम है। इस अनुभव को सीवी पर हाइलाइट होते देखना बहुत अच्छा है,”  एक अन्य ने कहा, “गृहिणी का एक अनुभव के रूप में उल्लेख करना उल्लेखनीय है और यह वास्तव में उस व्यक्ति की किसी चीज़ में गुणात्मक मूल्य जोड़ने में सक्षम होने की खुली मानसिकता को दर्शाता है जिसे आमतौर पर दरकिनार कर दिया जाता है और समाज द्वारा एक न्यूनतम कार्य माना जाता है।”

वाकई गृहणी का यह कदम बहुत सी महिलाओं के लिए प्रेरणा साबित होगा l अपनी योग्यता, क्षमता पर गर्व करने के साथ ही साथ अपने किये साधारण से लगने वाले कार्यों और समझौतों की अहमियत सबसे पहले हमें खुद ही समझनी है और यह CV उसी बदलाव की एक किरण है l

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *