एक बेहद चौकाने वाला मामला सामने आया है, जसमे एक वृद्ध महिला को डॉक्टरों ने अस्पताल में मृत घोषित कर दिया था, उसके बाद परिजन अंतिम संस्कार करने के लिए उसे अपने गांव ले जा रहे थे, आश्चर्य की बात यह है की रास्ते में ही वृद्ध महिला जिंदा हो गई। उसके बाद महिला को अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराया गया है, यह किसी चमत्कार से कम नहीं हैं, कई लोग इसे चमत्कार ही मान रहे है।

दरअसल, बिहार की रहने वाली 72 वर्षीय महिला को छत्तीसगढ़ में डॉक्टरों ने मृत्यु घोषित कर दिया था। परिजन जब उसका दाह संस्कार करने के लिए बेगूसराय जा रहे थे, तभी वह बिहार पहुंचते ही जिंदा हो गई और फिलहाल महिला का इलाज बेगूसराय के सदर अस्पताल के आईसीयू में चल रहा है।

बता दें की इस मामले में डॉक्टर का कहना है कि, ये किसी चमत्कार से कम नहीं है, हार्ट ब्लॉक होने की वजह से सांस रुकने पर महिला को छत्तीसगढ़ में मृत घोषित किया गया होगा लेकिन चारपहिया वाहन से इन्हें लाने के दौरान, रास्ते में जर्क से सीपीआर की वजह से इनकी फिर से सांस चलने लगी है, फिलहाल महिला की स्थिति ठीक है और सदर अस्पताल के आईसीयू में इलाज चल रहा है।

जानकारी के अनुसार, बेगूसराय जिले के नीमा चांदपुरा थाना इलाके की निवासी रामरती देवी उम्र 72, अपने पुत्र के पास छत्तीसगढ़ के कोरबा जिले में रह रही थी, बीते रविवार को रामरती देवी की तबीयत अचानक बिगड़ने लगी। तब उसे कोरबा के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया, इलाज के दौरान वहां के डॉक्टर ने रामरती देवी को मृत घोषित कर दिया।

बता दें वहीँ महिला की मौत के बाद परिजन उसे स्कार्पियो वाहन से अपने गांव बेगूसराय के लिए चल पड़े, रास्ते में औरंगाबाद के आसपास जब महिला के पुत्र मुरारी ने मां के शव को एक बार फिर हाथ लगाया तो शरीर में कुछ हलचल महसूस हुई। बता दें की महिला की हालत में अभी सुधार है उनको हॉस्पिटल में एडमिट कराया गया है।

 

 

 

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *