0 1 min 4 mths

रेंगाखार वन परिक्षेत्र में सरई , साल व अन्य पेड़ों की प्रजाति पाई जाती है। खेती के लिए वनक्षेत्र में अतिक्रमण किया जा रहा है, लेकिन वन अफसर गंभीर नहीं हैं। दरअसल, वन क्षेत्र की सुरक्षा के लिए बना सिस्टम ही ढीला-ढाला है।

लेकिन अब की बार सावधानी बरतते हुयें, रेंगाखार वनपरिक्षेत्र के सरईपतेरा और मध्यप्रदेश की सीमा से लगे अकलपुरा गांव के 3 दुर्नाम शिकारी को वन विभाग ने गिरफ्तार किया है, कान्हा के बफर जोन में पिछले 20 दिनों में अब तक 3 सांभर का शिकार हो चुका है, मामले में वन रक्षक ने मास्टरमाइंड सहित तीन शिकारी को दबोच लिया है।

बता दें की पूरी टीम ने आरोपियों से 11 किलो से ज्यादा कच्चा मांस जब्त किया है, साथ ही शिकार के दौरान इस्तेमाल किए जाने वाले हथियारों को भी जब्त किया गया है। वहीं पूछ ताछ से पता चला की गिरोह के द्वारा अब तक 60 से ज्यादा वन्यजीव का का शिकार किया जा चूका हैं, अभी भी गिरोह के 5 अन्य सदस्य फरार हैं जिनकी तलाश की जा रही है।

दरअसल, कवर्धा डीएफओ चुड़ामणि और कान्हा टाईगर रिजर्व के फील्ड डायेरक्टर की संयुक्त टीम ने ये कार्रवाई की है, टीम ने इस मामले में प्रभु सिंह ,सोनसिंह सहित तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया है। ये कार्रवाई रेंगाखार वन परिक्षेत्र में की गई है।

 

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

चर्चा में